जानिए 2024 में हनुमान साठिका का सही तरीकेसे पाठ करने के नियम | Hanuman Sathika PDF

Share this article :

दोस्तों, यदि आप हिंदी में Hanuman Sathika PDF Free में Download करना चाहते हैं, तो आप इस पेज पर दिए गए डाउनलोड लिंक से Hanuman Sathika PDF Download कर सकते हैं।

हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) के बारे में अधिक जानने के लिए आप निम्नलिखित लेख भी पढ़ सकते हैं। यहां हमने चर्चा की है कि Hanuman Sathika क्या है, हनुमान साठिका पढ़ने के फायदे(Hanuman Sathika Benefits), हनुमान साठिका पाठ के विधि, Hanuman Sathika PDF Free में कैसे Download करें आदि। इसके अलावा आप चाहें तो अंग्रेजी भाषा में भी हनुमान साठिका (Hanuman Sathika in English) पढ़ और डाउनलोड कर सकते हैं।

Hanuman Sathika PDF
Hanuman Sathika PDF Image

हमारे यहां भारत के एक प्रसिद्ध कवि और हिंदू भक्त थे जिनका नाम श्री तुलसी दास था। उन्होंने रामचरितमानस किताब में इस हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) की रचना की थी।

उन्होंने श्री हनुमानजी की कृपा पाने के लिए इस चालीसा की रचना की थी और हनुमान साठिका हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa) का ही एक भाग है। इस हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का श्रद्धापूर्वक पाठ करने से महान बल की प्राप्ति होती है।

ये भी पढ़ें : Hanuman Lyrics Odia

हनुमान साठिका | Hanuman Sathika PDF Information

PDF NameHanuman Sathika PDF
PDF Size1.03 MB
PDF CategoryChalisa
LanguageHindi
No Of Pages2
Uploaded BySumit
Last UpdatedSept, 2023
Hanuman Sathika PDF Information

Hanuman Sathika क्या है ?

Hanuman Sathika हनुमान जी के सबसे शक्तिशाली भजनों में से एक है। यह Hanuman Chalisa और sankat mochan hanuman ashtak को एक साथ मिलाकर बनाई गई हनुमान साठिका है।

इसका पाठ और पूजन विशेष रूप से Hanuman Jayanti और हनुमानजी के जन्मदिन पर किया जाता है। इसके अलावा यदि आप प्रतिदिन इस Hanuman Sathika का पाठ करते हैं तो आप हनुमानजी की विशेष कृपा प्राप्त कर सकते हैं

और सभी संकटों से दूर रह सकते हैं। यदि आप प्रतिदिन नहीं पढ़ सकते तो मंगलवार को अवश्य पढ़ें। पाठ के अंत में Hanuman Chalisa Aarti अवश्य करनी चाहिए।

हनुमानजी के भक्त हनुमानजी के 108 नाम का जाप करके आसानी से उनकी कृपा पा सकते हैं और साथ ही श्री रामजी की भी कृपा प्राप्त होती है। लेकिन ध्यान रखें कि पाठ करते समय स्पष्ट उच्चारण करें। आइये भक्ति भाव से हनुमान साठिका पढ़ना प्रारंभ करें।

Hanuman Sathika Lyrics in Hindi

Hanuman Sathika Lyrics का पाठ करने के कुछ नियम हैं और उन नियमों के अनुसार Hanuman Sathika Lyrics का पाठ करना चाहिए। उदाहरण के लिए: Hanuman Sathika Lyrics का पाठ करते समय परेशान न हों। आपको भक्ति भाव से Hanuman Sathika Lyrics का पाठ करना है। नीचे इसके नियमों के बारे में बेहतर व्याख्या दी गई है, इससे पहले आइए Hanuman Sathika Lyrics को ध्यान से पढ़ें।

॥ चौपाई ॥

जय जय जय हनुमान अडंगी ।

महावीर विक्रम बजरंगी ॥

जय कपीश जय पवन कुमारा ।

जय जगबन्दन सील अगारा ॥

जय आदित्य अमर अबिकारी ।

अरि मरदन जय-जय गिरधारी ॥

अंजनि उदर जन्म तुम लीन्हा ।

जय-जयकार देवतन कीन्हा ॥

बाजे दुन्दुभि गगन गम्भीरा ।

सुर मन हर्ष असुर मन पीरा ॥

कपि के डर गढ़ लंक सकानी ।

छूटे बंध देवतन जानी ॥

ऋषि समूह निकट चलि आये ।

पवन तनय के पद सिर नाये॥

बार-बार अस्तुति करि नाना ।

निर्मल नाम धरा हनुमाना ॥

सकल ऋषिन मिलि अस मत ठाना ।

दीन्ह बताय लाल फल खाना ॥

सुनत बचन कपि मन हर्षाना ।

रवि रथ उदय लाल फल जाना ॥

रथ समेत कपि कीन्ह अहारा ।

सूर्य बिना भए अति अंधियारा ॥

विनय तुम्हार करै अकुलाना ।

तब कपीस की अस्तुति ठाना ॥

सकल लोक वृतान्त सुनावा ।

चतुरानन तब रवि उगिलावा ॥

कहा बहोरि सुनहु बलसीला ।

रामचन्द्र करिहैं बहु लीला ॥

तब तुम उन्हकर करेहू सहाई ।

अबहिं बसहु कानन में जाई ॥

असकहि विधि निजलोक सिधारा ।

मिले सखा संग पवन कुमारा ॥

खेलैं खेल महा तरु तोरैं ।

ढेर करैं बहु पर्वत फोरैं ॥

जेहि गिरि चरण देहि कपि धाई ।

गिरि समेत पातालहिं जाई ॥

कपि सुग्रीव बालि की त्रासा ।

निरखति रहे राम मगु आसा ॥

मिले राम तहं पवन कुमारा ।

अति आनन्द सप्रेम दुलारा ॥

मनि मुंदरी रघुपति सों पाई ।

सीता खोज चले सिरु नाई ॥

सतयोजन जलनिधि विस्तारा ।

अगम अपार देवतन हारा ॥

जिमि सर गोखुर सरिस कपीसा ।

लांघि गये कपि कहि जगदीशा ॥

सीता चरण सीस तिन्ह नाये ।

अजर अमर के आसिस पाये ॥

रहे दनुज उपवन रखवारी ।

एक से एक महाभट भारी ॥

तिन्हैं मारि पुनि कहेउ कपीसा ।

दहेउ लंक कोप्यो भुज बीसा ॥

सिया बोध दै पुनि फिर आये ।

रामचन्द्र के पद सिर नाये ॥

मेरु उपारि आप छिन माहीं ।

बांधे सेतु निमिष इक मांहीं ॥

लछमन शक्ति लागी उर जबहीं ।

राम बुलाय कहा पुनि तबहीं ॥

भवन समेत सुषेन लै आये ।

तुरत सजीवन को पुनि धाये ॥

मग महं कालनेमि कहं मारा ।

अमित सुभट निसिचर संहारा ॥

आनि संजीवन गिरि समेता ।

धरि दीन्हों जहं कृपा निकेता ॥

फनपति केर सोक हरि लीन्हा ।

वर्षि सुमन सुर जय जय कीन्हा ॥

अहिरावण हरि अनुज समेता ।

लै गयो तहां पाताल निकेता ॥

जहां रहे देवि अस्थाना ।

दीन चहै बलि काढ़ि कृपाना ॥

पवनतनय प्रभु कीन गुहारी ।

कटक समेत निसाचर मारी ॥

रीछ कीसपति सबै बहोरी ।

राम लषन कीने यक ठोरी ॥

सब देवतन की बन्दि छुड़ाये ।

सो कीरति मुनि नारद गाये ॥

अछयकुमार दनुज बलवाना ।

कालकेतु कहं सब जग जाना ॥

कुम्भकरण रावण का भाई ।

ताहि निपात कीन्ह कपिराई ॥

मेघनाद पर शक्ति मारा ।

पवन तनय तब सो बरियारा ॥

रहा तनय नारान्तक जाना ।

पल में हते ताहि हनुमाना ॥

जहं लगि भान दनुज कर पावा ।

पवन तनय सब मारि नसावा ॥

जय मारुत सुत जय अनुकूला ।

नाम कृसानु सोक सम तूला ॥

जहं जीवन के संकट होई ।

रवि तम सम सो संकट खोई ॥

बन्दि परै सुमिरै हनुमाना ।

संकट कटै धरै जो ध्याना ॥

जाको बांध बामपद दीन्हा ।

मारुत सुत व्याकुल बहु कीन्हा ॥

सो भुजबल का कीन कृपाला ।

अच्छत तुम्हें मोर यह हाला ॥

आरत हरन नाम हनुमाना ।

सादर सुरपति कीन बखाना ॥

संकट रहै न एक रती को ।

ध्यान धरै हनुमान जती को ॥

धावहु देखि दीनता मोरी ।

कहौं पवनसुत जुगकर जोरी ॥

कपिपति बेगि अनुग्रह करहु ।

आतुर आइ दुसइ दुख हरहु ॥

राम सपथ मैं तुमहिं सुनाया ।

जवन गुहार लाग सिय जाया ॥

यश तुम्हार सकल जग जाना ।

भव बन्धन भंजन हनुमाना ॥

यह बन्धन कर केतिक बाता ।

नाम तुम्हार जगत सुखदाता ॥

करौ कृपा जय जय जग स्वामी ।

बार अनेक नमामि नमामी ॥

भौमवार कर होम विधाना ।

धूप दीप नैवेद्य सुजाना ॥

मंगल दायक को लौ लावे ।

सुन नर मुनि वांछित फल पावे ॥

जयति जयति जय जय जग स्वामी ।

समरथ पुरुष सुअन्तरजामी ॥

अंजनि तनय नाम हनुमाना ।

सो तुलसी के प्राण समाना ॥

॥ दोहा ॥

जय कपीस सुग्रीव तुम, जय अंगद हनुमान।

राम लषन सीता सहित, सदा करो कल्याण॥

बन्दौं हनुमत नाम यह, भौमवार परमान।

ध्यान धरै नर निश्चय, पावै पद कल्याण॥

जो नित पढ़ै यह साठिका, तुलसी कहैं बिचारि।

रहै न संकट ताहि को, साक्षी हैं त्रिपुरारि॥

॥ सवैया ॥

आरत बन पुकारत हौं कपिनाथ सुनो विनती मम भारी ।

अंगद औ नल-नील महाबलि देव सदा बल की बलिहारी ॥

जाम्बवन्त् सुग्रीव पवन-सुत दिबिद मयंद महा भटभारी ।

दुःख दोष हरो तुलसी जन-को श्री द्वादश बीरन की बलिहारी ॥

Hanuman Sathika Video & MP3

Hanuman Sathika Video & MP3

Shree Hanuman Sathika Benefits

Hanuman Sathika का नियमित पाठ करने से हमारे मानव जीवन में अनेक लाभ होते हैं। अगर आप किसी बात को लेकर परेशान हैं या आपको कोई समाधान नहीं मिल पा रहा है तो आप प्रतिदिन श्रद्धापूर्वक Hanuman Sathika का पाठ कर सकते हैं

जिससे आपके मन से बुरे विचार दूर हो जाएंगे और आप हमेशा सफलता के पथ पर अग्रसर रहेंगे। हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करने के और भी कई लाभ हैं जिनकी चर्चा नीचे की गई है।

Hanuman Sathika PDF
Hanuman Sathika PDF
  • सबसे पहले लंबे समय तक Hanuman Sathika का पाठ करने से हमारा पारिवारिक जीवन बहुत अच्छा रहता है और परिवार में किसी भी प्रकार का झगड़ा और अशांति नहीं होती है।
  • दूसरा फायदा यह होता है कि हमारे जीवन में आर्थिक परेशानियां दूर हो जाती हैं और धन की कमी नहीं होती है।
  • लगातार हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करने से कोई भी बीमारी हमारे शरीर में प्रवेश नहीं कर पाती है जिससे हम हमेशा खुद को मजबूत महसूस कर सकते हैं।
  • Hanuman Sathika का पाठ करने से शत्रु हमारे निकट नहीं आते और मन में कोई बुरे विचार नहीं आते।
  • अगर आपको रात को सोते समय कोई बुरे सपने आते हैं या आपको भूत-प्रेत का डर रहता है तो आपको रोजाना हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करना चाहिए।
  • अगर आपके ऊपर कोई ग्रह दोष है तो आप रोजाना हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ जरूर कर सकते हैं।
  • अगर आप श्रद्धापूर्वक Hanuman Sathika का पाठ करेंगे तो आपको हनुमान जी की कृपा तो मिलेगी ही साथ ही श्री राम जी की भी कृपा प्राप्त होगी।

श्री हनुमान साठिका (Shree Hanuman Sathika) पाठ के विधि

Hanuman Sathika पाठ की कई विधियाँ हैं और अच्छे परिणाम पाने के लिए आपको उन विधियों का पालन करना चाहिए। आइए जानते हैं कैसे करें हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ

  • जब भी आप Hanuman Sathika का पाठ करें तो सबसे पहले उसका श्रद्धापूर्वक पाठ करें।
  • Hanuman Sathika का पाठ करते समय स्नान करके साफ कपड़े पहनकर किसी पवित्र स्थान पर बैठना चाहिए।
  • यदि आप प्रतिदिन हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ नहीं कर सकते तो मंगलवार और शनिवार को इसका पाठ अवश्य करें।
  • Hanuman Sathika का पाठ दिन की शुरुआत यानी सुबह और दिन के अंत यानी शाम को करना शुभ माना जाता है।
  • यदि आप प्रत्येक मंगलवार और शनिवार को किसी हनुमान मंदिर में जाकर पूजा करें और उनके साथ हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करें तो हनुमान जी शीघ्र प्रसन्न होते हैं।
  • इसके अलावा आप हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करते समय श्री राम चालीसा का पाठ भी कर सकते हैं तो इससे अधिक शुभ कुछ भी नहीं है।
  • Hanuman Sathika का पाठ करते समय हनुमान जी पर पूर्ण विश्वास रखें। इस प्रकार यदि आप श्रद्धापूर्वक लंबे समय तक हनुमान जी की पूजा करेंगे तो हनुमान जी आपकी पुकार का उत्तर अवश्य देंगे।
Hanuman Sathika PDF
Hanuman Sathika PDF Image

Hanuman Sathika PDF Free Download

Hanuman sathika pdf free Download करने के लिए जैसे ही आप नीचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करेंगे तो तुरंत आपके डिवाइस पर सेव हो जाएगा।

यदि आप इस Hanuman sathika को PDF फॉर्मेट में Download करते हैं तो आप इसे जहां चाहें वहां ले जा सकते हैं और आप इसे अपने कार्यस्थल या कार्यालय में पढ़ सकते हैं और आप इसे आसानी से जिसके साथ चाहें शेयर कर सकते हैं।

लेकिन याद रखें कि जब भी इसे पढ़ें तो श्रद्धापूर्वक पढ़ें और किसी अशुद्ध स्थान पर न पढ़ें। प्रतिदिन भक्तिपूर्वक Hanuman sathika का पाठ करने से आपके मन से सभी बुरे विचार दूर हो जाएंगे और आपकी सफलता का मार्ग प्रशस्त होगा।

Hanuman Sathika in Hindi Book

प्रिय पाठक, अगर आपको किताबें पढ़ने का शौक है तो आप निश्चित रूप से Hanuman Sathika Hindi Book खरीद सकते हैं। आपको कोशिश करनी चाहिए कि Hanuman Sathika Book को किसी पवित्र स्थान पर या हनुमान जी के बगल में रखें। परिणामस्वरूप, आप एक निश्चित समय पर पुस्तक पढ़ सकते हैं।

Hanuman Sathika PDF
Hanuman Sathika PDF

तो दोस्तों बाजार में किताबें अलग-अलग कीमत पर उपलब्ध हैं, लेकिन मैं कम कीमत पर कुछ किताबों के लिंक दे रहा हूं, जिन्हें आप चाहें तो खरीद सकते हैं। जो आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा.

Hanuman Sathika Hindi Book

Hanuman Sathika PDF : Free Download

Hanuman Sathika Lyrics in English

॥ Chaupai ॥

Jai Jai Jai Hanuman Adangi । Mahavir Vikram Bajrangi ॥

Jai Kapish Jai Pavan Kumara । Jai Jagbandan Sil Agara ॥

Jai Adity Amar Abikari । Ari Mardan Jai-jai Girdhari ॥

Anjani Udar Janm Tum Linha । Jai-jayakar Devtan Kinha ॥

Baje Dundubhi Gagan Gambhira । Sur Man Harsh Asur Man Pira ॥

Kapi Ke Dar Gadh Lank Sakani । Chhoote Bandh Devtan Jani ॥

Rshi Samooh Nikat Chali Aye । Pavan Tanay Ke Pad Sir Naye ॥

Bar-bar Astuti Kari Nana । Nirmal Nam Dhara Hanumana ॥

Sakal Rshin Mili as Mat Thana । Dinh Batay Lal Phal Khana ॥

Sunat Bachan Kapi Man Harshna । Ravi Rath Uday Lal Phal Jana ॥

Rath Samet Kapi Kinh Ahara । Soory Bina Bhe Ati Andhiyara ॥

Vinay Tumhar Karai Akulana । Tab Kapis Ki Astuti Thana ॥

Sakal Lok Vrtant Sunava । Chaturanan Tab Ravi Ugilava ॥

Kaha Bahori Sunahu Balasila । Ramachandr Karihain Bahu Lila ॥

Tab Tum Unhakar Karehoo Sahai । Abahin Basahu Kanan Mein Jai ॥

Asakahi Vidhi Nijalok Sidhara । Mile Sakha Sang Pavan Kumara ॥

Khelain Khel Maha Taru Torain । Dher Karain Bahu Parvat Phorain ॥

Jehi Giri Charan Dehi Kapi Dhai । Giri Samet Patalahin Jai ॥

Kapi Sugriv Bali Ki Trasa । Nirkhati Rahe Ram Magu Asa ॥

Mile Ram Tahan Pavan Kumara । Ati Anand Saprem Dulara ॥

Mani Mundari Raghupati Son Pai । Sita Khoj Chale Siru Nai ॥

Satayojan Jalanidhi Vistara । Agam Apar Devatan Hara ॥

Jimi Sar Gokhur Saris Kapisa । Langhi Gaye Kapi Kahi Jagadisha ॥

Sita Charan Sis Tinh Naye । Ajar Amar Ke Asis Paye ॥

Rahe Danuj Upavan Rakhavari । Ek Se Ek Mahabhat Bhari ॥

Tinhain Mari Puni Kaheu Kapisa । Daheu Lank Kopyo Bhuj Bisa ॥

Siya Bodh Dai Puni Phir Aye । Ramachandr Ke Pad Sir Naye ॥

Meru Upari Ap Chhin Mahin । Bandhe Setu Nimish Ik Manhin ॥

Lachhaman Shakti Lagi Ur Jabahin । Ram Bulay Kaha Puni Tabahin ॥

Bhavan Samet Sushen Lai Aye । Turat Sajivan Ko Puni Dhaye ॥

Mag Mahan Kalanemi Kahan Mara । Amit Subhat Nisichar Sanhara ॥

Ani Sanjivan Giri Sameta । Dhari Dinhon Jahan Krpa Niketa ॥

Phanapati Ker Sok Hari Linha । Varshi Suman Sur Jai Jai Kinha ॥

Ahiravan Hari Anuj Sameta । Lai Gayo Tahan Patal Niketa ॥

Jahan Rahe Devi Asthana । Din Chahai Bali Kadhi Krpana ॥

Pavanatanay Prabhu Kin Guhari । Katak Samet Nisachar Mari ॥

Richh Kisapati Sabai Bahori । Ram Lashan Kine Yak Thori ॥

Sab Devatan Ki Bandi Chhudaye । So Kirati Muni Narad Gaye ॥

Achhayakumar Danuj Balavana । Kalaketu Kahan Sab Jag Jana ॥

Kumbhakaran Ravan Ka Bhai । Tahi Nipat Kinh Kapirai ॥

Meghanad Par Shakti Mara । Pavan Tanay Tab So Bariyara ॥

Raha Tanay Narantak Jana । Pal Mein Hate Tahi Hanumana ॥

Jahan Lagi Bhan Danuj Kar Pava । Pavan Tanay Sab Mari Nasava ॥

Jai Marut Sut Jai Anukoola । Nam Krsanu Sok Sam Toola ॥

Jahan Jivan Ke Sankat Hoi । Ravi Tam Sam So Sankat Khoi ॥

Bandi Parai Sumirai Hanumana । Sankat Katai Dharai Jo Dhyana ॥

Jako Bandh Bamapad Dinha । Marut Sut Vyakul Bahu Kinha ॥

So Bhujabal Ka Kin Krpala । Achchhat Tumhen Mor Yah Hala ॥

Arat Haran Nam Hanumana । Sadar Surapati Kin Bakhana ॥

Sankat Rahai Na Ek Rati Ko । Dhyan Dharai Hanuman Jati Ko ॥

Dhavahu Dekhi Dinata Mori । Kahaun Pavanasut Jugakar Jori ॥

Kapipati Begi Anugrah Karahu । Atur Ai Dusi Dukh Harahu ॥

Ram Sapath Main Tumahin Sunaya । Javan Guhar Lag Siy Jaya ॥

Yash Tumhar Sakal Jag Jana । Bhav Bandhan Bhanjan Hanumana ॥

Yah Bandhan Kar Ketik Bata । Nam Tumhar Jagat Sukhadata ॥

Karau Krpa Jai Jai Jag Svami । Bar Anek Namami Namami ॥

Bhaumavar Kar Hom Vidhana । Dhoop Dip Naivedy Sujana ॥

Mangal Dayak Ko Lau Lave । Sun Nar Muni Vanchhit Phal Pave ॥

Jayati Jayati Jai Jai Jag Svami । Samarath Purush Suantarajami ॥

Anjani Tanay Nam Hanumana ।So Tulasi Ke Pran Samana ॥

॥ Doha ॥

Jai Kapis Sugriv Tum, Jai Angad Hanuman ।

Ram Lashan Sita Sahit, Sada Karo Kalyan ॥

Bandaun Hanumat Nam Yah, Bhaumavar Paraman ।

Dhyan Dharai Nar Nishchay, Pavai Pad Kalyan ॥

Jo Nit Padhai Yah Sathika, Tulasi Kahain Bichari ।

Rahai Na Sankat Tahi Ko, Sakshi Hain Tripurari ॥

॥ Savaiya ॥

Arat Ban Pukarat Haun Kapinath Suno Vinati Mam Bhari ।

Angad Au Nal-nil Mahabali Dev Sada Bal Ki Balihari ॥

Jambavant Sugriv Pavan-sut Dibid Mayand Maha Bhatabhari ।

Duhkh Dosh Haro Tulasi Jan-ko Shri Dvadash Biran Ki Balihari ॥

Hanuman Sathika PDF in English

To download Hanuman sathika pdf in English, as soon as you click on the download link given below, it will be immediately saved on your device.

If you download this Hanuman sathika in PDF format then you can take it wherever you want and you can read it in your workplace or office and you can easily share it with whoever you want.

But remember that whenever you read it, read it with devotion and do not read it at any impure place. Daily devotional recitation of Hanuman sathika will remove all the bad thoughts from your mind and pave the way for your success.

Hanuman Sathika PDF in English : Free Download

FAQ:

हनुमान साठिका की रचना किसने की?

श्री तुलसी दास रामचरितमानस किताब में इस हनुमान साठिका की रचना की थी।

हनुमान सटिका का पाठ कैसे करें?

हनुमान सटिका का पाठ करने के लिए आपको भक्ति भाव से ध्यान पूर्वक पाठ करना चाहिए हमेशा और किसी अपवित्र स्थान पर बैठकर हनुमान सटिका का पाठ ना करें।

हनुमान जी का कौन सा मंत्र पढ़े?

ॐ हं हनुमते नमः इस मंत्र का जाप करें।

हनुमान जी का कौन सा पाठ करना चाहिए?

हनुमान जी का जितना भी पाठ है उन सभी पाठ को आपको करना चाहिए उसके साथ आपको मंगलवार और शनिवार के दिन हनुमान अष्टक का पाठ आपको जरूर करना चाहिए।

हनुमान जी का असली नाम क्या है?

हनुमान जी का असली नाम है मारुति। इसी नाम से हनुमान जी को बचपन में जाना जाता था और यही उसका असली नाम है।

हनुमान जी को सिद्ध करने के लिए क्या करना चाहिए?

सफलता पाने के लिए हनुमानजी की मूर्ति के सामने बैठकर घी का दीपक जलाएं और पांच मुखी रुद्राक्ष की माला पहनकर 41 दिनों तक रोजाना 7 बार जाप करें।

हनुमान जी को जागृत कैसे करें?

प्रत्येक मंगलवार एवं शनिवार को हनुमान चालीसा सहित हनुमान साठिका का पाठ करें। और उसके साथ मंगलवार और शनिवार को हनुमान मंदिर जाएं ।

CONCLUSION:

जैसा कि आप उपरोक्त जानकारी से जान चुके हैं कि प्रतिदिन श्री हनुमान साठिका (Shri Hanuman Sathika) का पाठ करने के कई लाभ हैं। लेकिन हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) पाठ के साथ एक बात याद रखें कि

यदि आप समाज में अच्छा काम नहीं करते हैं, यदि आप लोगों का भला नहीं करते हैं, तो कोई भी चुनौती आपको फायदा नहीं पहुंचाएगी। इसलिए यदि आप अच्छे परिणाम पाना चाहते हैं तो समाज में अच्छे कार्य करें और नियमित रूप से श्री हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) का पाठ करें।

आपको हनुमान साठिका (Hanuman Sathika) की जानकारी कैसी लगी कमेंट करके बताएं। इसके अलावा, यदि इस विषय पर आपकी कोई राय है, तो आप टिप्पणी कर सकते हैं और अन्य देवी-देवताओं की चालीसा पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट PDFKro.com पर जा सकते हैं। धन्यवाद।

Also Read: Shree Ram Chalisa

Also Read : Shani Dev Chalisa

Also Read: Ma Durga Chalisa


Share this article :

18 thoughts on “जानिए 2024 में हनुमान साठिका का सही तरीकेसे पाठ करने के नियम | Hanuman Sathika PDF”

Leave a Comment