Free Ramdev Chalisa in Hindi PDF Download 2024

Share this article :

Friends, if you want to download Ramdev Chalisa in Hindi PDF, then you can easily download Ramdev Chalisa in Hindi PDF from the download link given on this page.

दोस्तों अगर आप रामदेव चालीसा हिंदी में (Ramdev Chalisa in Hindi PDF) डाउनलोड करना चाहते हैं तो आप इस पेज पर दिए गए डाउनलोड लिंक से आसानी से हिंदी में रामदेव चालीसा (Ramdev Chalisa in Hindi PDF) डाउनलोड कर सकते हैं।

Ramdev Chalisa in Hindi PDF Details

PDF NameRamdev Chalisa in Hindi PDF
PDF CatagoryChalisa
PDF Size163Kb
No Of Pages2
LanguageHindi
Sourcepdfkro.com
Last UpdatedJAN2024
Uploaded BySumit
Ramdev Chalisa in Hindi PDF Details
Ramdev Chalisa in Hindi PDF
Ramdev Chalisa in Hindi PDF

Ramdev Chalisa in Hindi PDF Download

आप इस Ramdev Chalisa in Hindi PDF को डाउनलोड करके कई लाभ प्राप्त कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, Ramdev Chalisa PDF फॉर्मेट डाउनलोड करके आप इस पीडीएफ फाइल को जहां चाहें वहां ले जा सकते हैं।

साथ ही आप इसे आसानी से दूसरों के साथ साझा भी कर सकते हैं और जब चाहें किसी पवित्र स्थान पर बैठकर इसका पाठ कर सकते हैं।

Ramdev Chalisa in Hindi PDF Download

Ramdev Chalisa in Hindi

दोस्तों राजस्थान के जैसलमेर जिले के रूप में प्रतिवर्ष भाद्र मास के दूध से लगने वाला रामदेवरा का मेला राजस्थान का सबसे बड़ा सांप्रदायिक सद्भावना का मेला माना जाता है।

जहाँ राजस्थान, गुजरात और उत्तर प्रदेश से लाखों पैदल यात्री हजारों मील का सफर तय करके नंगे पांव बाबा के दर्शन के लिए आते हैं। बाबा रामदेव जी राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध लोकप्रिय देवता हैं, जिन्हें भगवान श्रीकृष्ण का अवतार माना जाता है।

इन्होंने अपने जीवन में कई चमत्कार दिखाए थे और भैरव राक्षस का भी वध किया था। यहाँ बाबा का प्रसिद्ध चमत्कारी मंदिर स्थित है।जहाँ सभी की मनोकामनाएं पूरी होती है। यहाँ प्रतिवर्ष भाद्र मास में शुक्ल पक्ष की दूध से एकादशी तक रामदेवरा मेले का आयोजन होता है।

बाबा रामदेव जी ने इसी स्थान पर भादवा की एकादशी के दिन जीवित समाधि ली थी। हिंदुओं के अलावा रामदेव जी को मुसलमान भक्त भी मानते हैं। रामदेव जी ने मक्का के पांच मुस्लिम पीरों को चमत्कार दिखाकर उनके घमंड को नष्ट किया था। इस कारण मुसलमान इन्हें रामसा पीर के नाम से जानते हैं।

Ramdev Chalisa in Hindi Lyrics

Ramdev Chalisa in Hindi Lyrics

दोहा

श्री गुरु पद नमन करि, गिरा गनेश मनाय।

कथूं रामदेव विमल यश, सुने पाप विनशाय।।

द्वार केश से आय कर, लिया मनुज अवतार।

अजमल गेह बधावणा, जग में जय जयकार।।

चौपाई

जय जय रामदेव सुर राया, अजमल पुत्र अनोखी माया।

विष्णु रूप सुर नर के स्वामी, परम प्रतापी अन्तर्यामी।

ले अवतार अवनि पर आये, तंवर वंश अवतंश कहाये।

संज जनों के कारज सारे, दानव दैत्य दुष्ट संहारे।

परच्या प्रथम पिता को दीन्हा, दूश परीण्डा माही कीन्हा।

कुमकुम पद पोली दर्शाये, ज्योंही प्रभु पलने प्रगटाये।

परचा दूजा जननी पाया, दूध उफणता चरा उठाया।

परचा तीजा पुरजन पाया, चिथड़ों का घोड़ा ही साया।

परच्या चैथा भैरव मारा, भक्त जनों का कष्ट निवारा।

पंचम परच्या रतना पाया, पुंगल जा प्रभु फंद छुड़ाया।

परच्या छठा विजयसिंह पाया, जला नगर शरणागत आया।

परच्या सप्तम सुगना पाया, मुवा पुत्र हंसता भग आया।

परच्या अष्टम बौहित पाया, जा परदेश द्रव्य बहु लाया।

भंवर डूबती नाव उबारी, प्रगट टेर पहुँचे अवतारी।

नवमां परच्या वीरम पाया, बनियां आ जब हाल सुनाया।

दसवां परच्या पा बिनजारा, मिश्री बनी नमक सब खारा।

परच्या ग्यारह किरपा थारी, नमक हुआ मिश्री फिर सारी।

परच्या द्वादश ठोकर मारी, निकलंग नाड़ी सिरजी प्यारी।

परच्या तेरहवां पीर परी पधारया, ल्याय कटोरा कारज सारा।

चैदहवां परच्या जाभो पाया, निजसर जल खारा करवाया।

परच्या पन्द्रह फिर बतलाया, राम सरोवर प्रभु खुदवाया।

परच्या सोलह हरबू पाया, दर्श पाय अतिशय हरषाया।

परच्या सत्रह हर जी पाया, दूध थणा बकरया के आया।

सुखी नाडी पानी कीन्हों, आत्म ज्ञान हरजी ने दीन्हों।

परच्या अठारहवां हाकिम पाया, सूते को धरती लुढ़काया।

परच्या उन्नीसवां दल जी पाया, पुत्र पाया मन में हरषाया।

परच्या बीसवां पाया सेठाणी, आये प्रभु सुन गदगद वाणी।

तुरंत सेठ सरजीवण कीन्हा, उक्त उजागर अभय वर दीन्हा।

परच्या इक्कीसवां चोर जो पाया, हो अन्धा करनी फल पाया।

परच्या बाईसवां मिर्जो चीहां, सातों तवा बेध प्रभु दीन्हां।

परच्या तेईसवां बादशाह पाया, फेर भक्त को नहीं सताया।

परच्या चैबीसवां बख्शी पाया, मुवा पुत्र पल में उठ धाया।

जब-जब जिसने सुमरण कीन्हां, तब-तब आ तुम दर्शन दीन्हां।

भक्त टेर सुन आतुर धाते, चढ़ लीले पर जल्दी आते।

जो जन प्रभु की लीला गावें, मनवांछित कारज फल पावें।

यह चालीसा सुने सुनावे, ताके कष्ट सकल कट जावे।

जय जय जय प्रभु लीला धारी, तेरी महिमा अपरम्पारी।

मैं मूरख क्या गुण तव गाऊँ, कहाँ बुद्धि शारद सी लाऊँ।

नहीं बुद्धि बल घट लवलेशा, मती अनुसार रची चालीसा।

दास सभी शरण में तेरी, रखियों प्रभु लज्जा मेरी।

Ramdev Chalisa Benefits | रामदेव चालीसा पढ़ने के फायदे

रामदेव चालीसा का नियमित पाठ करने से हमारे जीवन में अनेक लाभ होते हैं। आइए जानते हैं उन फायदों के बारे में।

  1. नियमित रूप से रामदेव चालीसा का पाठ करने से शरीर स्वस्थ रहता है और कोई भी बीमारी प्रवेश नहीं कर पाती है।
  2. रामदेव चालीसा का पाठ करने से भूत-प्रेत दूर रहते हैं और रात में बुरे सपने नहीं आते।
  3. रामदेव चालीसा का पाठ करने से आध्यात्मिक शक्ति और आध्यात्मिक ज्ञान मिलता है।
  4. शत्रुओं का नाश होता है।
  5. कामकाज में अच्छा लाभ होगा।
  6. आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिलेगा।
  7. पारिवारिक कलह और अशांति से छुटकारा मिलेगा।

FAQ

रामदेव जी का मंत्र कौन सा है?

ॐ नमो रामदेवाय स्वाहा।। जय बाबा री सा *जयजय बाबेरी जी* *जयजय बाबेरी सा*

रामदेव जी की मां का क्या नाम था?

बाबा रामदेव का जन्म हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले के सैद अलीपुर गांव में हुआ। उनके पिता का नाम रामनिवास व माता का नाम गुलाब देवी है।

रामदेव जी किसका अवतार?

बाबा रामदेव (1352-1385) : बाबा रामदेव को द्वारिका‍धीश (श्रीकृष्ण) का अवतार माना जाता है। इन्हें पीरों का पीर ‘रामसा पीर’ कहा जाता है।

Also Read :

Sankat Mochan Hanuman Chalisa

Hanuman Sathika Odia


Share this article :

Leave a Comment