Narsingh Chalisa PDF Download in Hindi 2024 (श्री नरसिम्हा चालीसा)

Share this article :

दोस्तों, अगर आप मानसिक चिंता, पारिवारिक समस्या और आर्थिक समस्या से परेशान हैं तो अब चिंता करने की कोई बात नहीं है। इन सभी चिंताओं और खतरों से छुटकारा पाने के लिए इस पृष्ठ पर दी गई Narsingh Chalisa PDF Download करें और इसे नियमित रूप से भक्ति और सम्मान के साथ पढ़ें।

Shri Narasimha Chalisa और Shri Narsingh Chalisa एक ही देवता के चालीसा हैं इसलिए भ्रमित न हों। हमने नीचे इस Narsingh Chalisa के बारे में सारी जानकारी बहुत अच्छी तरह से चर्चा की है।

कृपया इसे श्रद्धापूर्वक पढ़ते रहें और पेज के नीचे दिए गए लिंक से Narsingh Chalisa PDF Download करें वह भी मुफ़्त में।

Table of Contents

Narsingh Chalisa PDF Download (नरसिम्हा चालीसा)

दोस्तो यदि आप Narsingh Chalisa PDF Download करते हैं तो आपको कई फायदे मिल सकते हैं। यह Narsingh Chalisa PDF आपके डिवाइस पर सेव के कारण आप इसे आसानी से एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जा सकते हैं और आप जब चाहें इस Narsingh Chalisa को पढ़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Sankat Mochan Hanuman Chalisa

लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि किसी भी अपवित्र स्थान पर बैठकर नरसिम्हा चालीसा का पाठ ना करें, यह आपके लिए बुरा होगा। Narsingh Chalisa PDF Free Download करने के लिए, नीचे दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें और यह तुरंत आपके डिवाइस पर सेव हो जाएगा।

Narsingh Chalisa PDF Download
Narsingh Chalisa PDF Download

Narsingh Chalisa PDF : Free Download

Narsingh Chalisa PDF Details

PDF NameNarsingh Chalisa PDF
PDF Size600 KB
PDF CategoryChalisa
LanguageHindi
No Of Pages2
Sourcepdfkro.com
Last UpdatedApril, 2024
Narsingh Chalisa PDF Download in Hindi

Narsingh (नरसिम्हा) भगवान कौन है?

हिंदू धर्म में एक पवित्र और शक्तिशाली देवता नरसिम्हा देवता हैं। यह नरसिम्हा देवता भगवान विष्णु के अवतार हैं और उनका जन्म हिरण्यकशिपु नामक एक शक्तिशाली राक्षस को नष्ट करने के लिए हुआ था।

हिरण्यकशिपु नाम का यह राक्षस अमर होने के लिए कृतसंकल्प था इसलिए उसने भगवान विष्णु को रोकने की कोशिश की, इसलिए भगवान विष्णु के एक और अवतार ने नरसिम्हा देवता का रूप लिया और अपने नाखूनों के नीचे हिरण्यकशिपु नामक शक्तिशाली राक्षस को नष्ट कर दिया।

Narsingh Chalisa PDF Download
Narsingh Chalisa PDF Download

Shri Narasimha Chalisa Lyrics In Hindi

Narasimha Chalisa एक भजन है जिसमें 40 छंद हैं। भक्त इस श्लोक का पाठ भगवान नरसिम्हा भगवान के प्रति सम्मान और भक्ति भाव से करते हैं। इस चालीसा का पाठ करने से उनका आध्यात्मिक ज्ञान बढ़ता है और मानसिक शांति बढ़ती है। आइए हम इस नरसिम्हा चालीसा का भक्तिपूर्वक पाठ करें।

॥ दोहा ॥

मास वैशाख कृतिका युत, हरण मही को भार । शुक्ल चतुर्दशी सोम दिन, लियो नरसिंह अवतार ॥

धन्य तुम्हारो सिंह तनु, धन्य तुम्हारो नाम । तुमरे सुमरन से प्रभु, पूरन हो सब काम ॥

॥ चौपाई ॥

नरसिंह देव में सुमरों तोहि । धन बल विद्या दान दे मोहि ॥१॥

जय जय नरसिंह कृपाला । करो सदा भक्तन प्रतिपाला ॥२॥

विष्णु के अवतार दयाला । महाकाल कालन को काला ॥३॥

नाम अनेक तुम्हारो बखानो । अल्प बुद्धि में ना कछु जानों ॥४॥

हिरणाकुश नृप अति अभिमानी । तेहि के भार मही अकुलानी ॥५॥

हिरणाकुश कयाधू के जाये । नाम भक्त प्रहलाद कहाये ॥६॥

भक्त बना विष्णु को दासा । पिता कियो मारन परसाया ॥७॥

अस्त्र-शस्त्र मारे भुज दण्डा । अग्निदाह कियो प्रचंडा ॥८॥

भक्त हेतु तुम लियो अवतारा । दुष्ट-दलन हरण महिभारा ॥९॥

तुम भक्तन के भक्त तुम्हारे । प्रह्लाद के प्राण पियारे ॥१०॥

प्रगट भये फाड़कर तुम खम्भा । देख दुष्ट-दल भये अचंभा ॥११॥

खड्ग जिह्व तनु सुंदर साजा । ऊर्ध्व केश महादष्ट्र विराजा ॥१२॥

तप्त स्वर्ण सम बदन तुम्हारा । को वरने तुम्हरों विस्तारा ॥१३॥

रूप चतुर्भुज बदन विशाला । नख जिह्वा है अति विकराला ॥१४॥

स्वर्ण मुकुट बदन अति भारी । कानन कुंडल की छवि न्यारी ॥१५॥

भक्त प्रहलाद को तुमने उबारा । हिरणा कुश खल क्षण मह मारा ॥१६॥

ब्रह्मा, विष्णु तुम्हे नित ध्यावे । इंद्र महेश सदा मन लावे ॥१७॥

वेद पुराण तुम्हरो यश गावे । शेष शारदा पारन पावे ॥१८॥

जो नर धरो तुम्हरो ध्याना । ताको होय सदा कल्याना ॥१९॥

त्राहि-त्राहि प्रभु दुःख निवारो । भव बंधन प्रभु आप ही टारो ॥२०॥

नित्य जपे जो नाम तिहारा । दुःख व्याधि हो निस्तारा ॥२१॥

संतान-हीन जो जाप कराये । मन इच्छित सो नर सुत पावे ॥२२॥

बंध्या नारी सुसंतान को पावे । नर दरिद्र धनी होई जावे ॥२३॥

जो नरसिंह का जाप करावे । ताहि विपत्ति सपनें नही आवे ॥२४॥

जो कामना करे मन माही । सब निश्चय सो सिद्ध हुई जाही ॥२५॥

जीवन मैं जो कछु संकट होई । निश्चय नरसिंह सुमरे सोई ॥२६॥

रोग ग्रसित जो ध्यावे कोई । ताकि काया कंचन होई ॥२७॥

डाकिनी-शाकिनी प्रेत बेताला । ग्रह-व्याधि अरु यम विकराला ॥२८॥

प्रेत पिशाच सबे भय खाए । यम के दूत निकट नहीं आवे ॥२९॥

सुमर नाम व्याधि सब भागे । रोग-शोक कबहूं नही लागे ॥३०॥

जाको नजर दोष हो भाई । सो नरसिंह चालीसा गाई ॥३१॥

हटे नजर होवे कल्याना । बचन सत्य साखी भगवाना ॥३२॥

जो नर ध्यान तुम्हारो लावे । सो नर मन वांछित फल पावे ॥३३॥

बनवाए जो मंदिर ज्ञानी । हो जावे वह नर जग मानी ॥३४॥

नित-प्रति पाठ करे इक बारा । सो नर रहे तुम्हारा प्यारा ॥३५॥

नरसिंह चालीसा जो जन गावे । दुःख दरिद्र ताके निकट न आवे ॥३६॥

चालीसा जो नर पढ़े-पढ़ावे । सो नर जग में सब कुछ पावे ॥३७॥

यह श्री नरसिंह चालीसा । पढ़े रंक होवे अवनीसा ॥३८॥

जो ध्यावे सो नर सुख पावे । तोही विमुख बहु दुःख उठावे ॥३९॥

“शिव स्वरूप है शरण तुम्हारी । हरो नाथ सब विपत्ति हमारी” ॥४०॥

॥ दोहा ॥

चारों युग गायें तेरी महिमा अपरम्पार । निज भक्तनु के प्राण हित लियो जगत अवतार ॥

नरसिंह चालीसा जो पढ़े प्रेम मगन शत बार । उस घर आनंद रहे वैभव बढ़े अपार ॥

॥ इति श्री नरसिंह चालीसा संपूर्णम् ॥

Narsingh Chalisa PDF Download in Hindi

नरसिंह भगवान की आरती | Shri Narsingh Bhagwan Ki Aarti | नृसिंह आरती PDF

प्रिय भक्तों यदि आप Narsingh Chalisa का पाठ करने के साथ-साथ नरसिंह भगवान की आरती का पाठ भी कर सकें तो आपको बहुत लाभ मिलेगा। तो आइये हम सब भक्ति भाव से नरसिंह भगवान की आरती का पाठ करें।

ॐ जय नरसिंह हरे,प्रभु जय नरसिंह हरे ।

स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,जनका ताप हरे ॥

ॐ जय नरसिंह हरे ॥

तुम हो दिन दयाला,भक्तन हितकारी,प्रभु भक्तन हितकारी ।

अद्भुत रूप बनाकर,अद्भुत रूप बनाकर,प्रकटे भय हारी ॥

ॐ जय नरसिंह हरे ॥

सबके ह्रदय विदारण,दुस्यु जियो मारी,प्रभु दुस्यु जियो मारी ।

दास जान आपनायो,दास जान आपनायो,जनपर कृपा करी ॥

ॐ जय नरसिंह हरे ॥

ब्रह्मा करत आरती,माला पहिनावे,प्रभु माला पहिनावे ।

शिवजी जय जय कहकर,पुष्पन बरसावे ॥

ॐ जय नरसिंह हरे ॥

इस Narsingh Chalisa PDF Download करने के साथ-साथ यदि आप Narsingh Aarti PDF Free Download करना चाहते हैं तो आप नीचे दिए गए लिंक से आसानी से नृसिंह आरती PDF फाइल डाउनलोड कर सकते हैं।

नरसिंह भगवान की आरती : Download

Narsingh Chalisa PDF Download in Hindi

नरसिंह मंत्र PDF | श्री नरसिंह भगवान मंत्र

भगवान नरसिंह बीज मत्रं

1. ‘श्रौं’/ क्ष्रौं (नसिृसिहं बीज)।

2. ॐ श्री लक्ष्मीनसिृसिंहाय नम:।।

3. ॐ नमृ नमृ नमृ नर सिंहाय नमः ।

इस बीज मेंक्ष्= नसिृसिहं , र्= ब्रह्म, औ = दि व्यतजे स्वी, एवंबि दं ु= दखु हरण है। इस बीज मत्रं का अर्थ है ‘दि व्यतजे स्वी ब्रह्मस्वरूप श्री नसिृसिहं मेरेदखु दरू करें’।

4. सकंटमोचन नरसिंह मत्रं

ध्यायेन्नसिृसिहं ं तरुणार्कनेत्रंसि ताम्बजु ातंज्वलि ताग्रि वक्त्रम।्अनादि मध्यान्तमजंपरुाणंपरात्परेशंजगतांनि धानम।्।

अगर आप कई सकं टों सेघि रेहुए हैंया सकं टों का सामना कर रहेहैं, तो भगवान वि ष्णुया श्री नसिृसिहं प्रति मा की पजू ा करके उपरोक्त सकं टमोचन नसिृसिहं मत्रं का स्मरण करें। समस्त सकं टों सेआसानी सेछुटकारा मि ल जाएगा।

5. भगवान नरसिंह गायत्री मंत्र

ॐ वज्रनखाय वि द्महेतीक्ष्ण दंष्ट्राय धीमहि | तन्नो नरसिंह प्रचोदयात ||

6. सपं त्ति बाधा नाशक नरसिंह मत्रं

“ॐ नमृ मलोल नरसिंहाय परूय-परूय”

7. ऋण मोचक नरसिंह मत्रं

“ॐ क्रोध नरसिंहाय नमृ नम:”

8. शत्रु नाशक नरसिंह मत्रं

“ॐ नमृ नरसिंहाय शत्रबुल वि दीर्ना य नमः”

9. नरसिहं यश रक्षक मत्रं

“ॐ करन्ज नरसिंहाय यशो रक्ष”

श्री नरसिंह भगवान मंत्र PDF : Download

Narsingh Chalisa PDF Download
Narsingh Chalisa PDF Download

नरसिंह चालीसा पढ़ने के लाभ | Shri Narsingh Chalisa Ke Fayde

नियमित रूप से Narsingh Chalisa PDF का पाठ करने से भक्तों को विभिन्न लाभ मिलते हैं। आइए जानते हैं Narsingh Chalisa PDF का पाठ करने के फायदे:

आध्यात्मिक उत्थान:

इस Narsingh Chalisa PDF Download करके आप रोजाना पढ़ सकते हैं तो, आपके नरसिंह देवता के साथ आपकी आध्यात्मिक यात्रा शुरू हो जाएगी और आपके जीवन में आध्यात्मिक उत्थान होगा।

मन की शांति:

इस नरसिंह चालीसा (Narsingh Chalisa) का प्रतिदिन पाठ करने से आपको मानसिक शांति और असीम ऊर्जा और दूसरों के प्रति दया मिलेगी।

खतरे से सुरक्षा:

Narsingh Chalisa PDF Download करें और इसे भक्तिपूर्वक पढ़ें, आपको किसी भी खतरे से सुरक्षा मिलेगी।

शारीरिक स्वास्थ्य:

अपने शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने और किसी भी शारीरिक समस्या से छुटकारा पाने के लिए इस Narsingh Chalisa PDF Download करें और इसे नियमित रूप से पढ़ें।

भय दूर करता है:

इस Narsingh Chalisa का पाठ करने से आपको किसी भी प्रकार के भय से मुक्ति मिल जाएगी और कोई भूत-प्रेत आपके पास नहीं आएगा।

मजबूत रिश्ते:

इस Narsingh Chalisa PDF Download करें और इसे प्रतिदिन भक्तिपूर्वक पढ़ें, इससे आपको किसी भी व्यक्ति के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध बनाने में मदद मिलती है और आपके पारिवारिक रिश्ते बहुत मजबूत होते हैं।

कार्य में सफलता :

यदि आप इस चालीसा का प्रतिदिन पाठ करेंगे तो आपको किसी भी कार्य में सफलता मिलेगी और आपके कार्य में कोई बाधा नहीं आएगी।

साथ ही इस Narsingh Chalisa PDF Download करके श्रद्धापूर्वक पढ़ने से नरसिंह देवता के साथ आपका रिश्ता गहरा होगा और नरसिंह देवता की कृपा के साथ-साथ भगवान विष्णु की कृपा भी प्राप्त होगी।

नरसिम्हा चालीसा का पाठ करने के नियम

दोस्तों नरसिम्हा चालीसा का पाठ करने के फायदे तो आप जान लिया लेकिन नरसिम्हा चालीसा का पाठ करने के कई नियम होते हैं। आइए जानते हैं वो नियम:

साफ-सफाई:

नरसिम्हा चालीसा (Narsingh Chalisa) का पाठ शुरू करने से पहले देख लें कि आप साफ-सुथरे हैं या नहीं तो हाथ धोकर साफ कपड़े पहनें और इस चालीसा का पाठ करें।

स्थान:

इस चालीसा का पाठ करने से पहले आपको किसी पवित्र स्थान या पूजा घर में बैठकर श्रद्धापूर्वक इस Narsingh Chalisa का पाठ करना चाहिए।

समय:

इस Narsingh Chalisa का पाठ करने के लिए अपनी पसंद का समय चुनें, नियमित रूप से सुबह और शाम इस चालीसा का पाठ करना बहुत शुभ माना जाता है।

चालीसा का पाठ:

इस चालीसा का पाठ करते समय प्रत्येक पंक्ति का अर्थ समझकर स्पष्ट उच्चारण के साथ श्रद्धापूर्वक पाठ करें।

आस्था:

इस नरसिमा चालीसा का पाठ करने के बाद, नर्सिंग देवता पर विश्वास रखें कि आपकी सभी इच्छाएँ पूरी होंगी।

FAQ:

नरसिंह भगवान का मंत्र क्या है?

“ॐ करन्ज नरसिंहाय यशो रक्ष” यह मंत्र भगवान नरसिंह का रक्षा मंत्र है।

नरसिंह भगवान का बीज मंत्र क्या है?

1. ‘श्रौं’/ क्ष्रौं (नसिृसिहं बीज)। 2. ॐ श्री लक्ष्मीनसिृसिंहाय नम:।। 3. ॐ नमृ नमृ नमृ नर सिंहाय नमः ।

भगवान नरसिंह को कैसे प्रसन्न करें?

दिन में दो बार भक्ति और सम्मान के साथ नरसिंह चालीसा का पाठ करें और भगवान के प्रति आपकी भक्ति आपको पहले से ही प्रसन्न करेगी।

नरसिंह भगवान कौन है?

भगवान नरसिंह भगवान विष्णु के अवतार हैं। हिरण्यकशिपु नामित राक्षस को नष्ट करने के लिए पैदा हुआ था।

नरसिंह भगवान का अवतार कब हुआ था?

नरसिंह भगवान का जन्म तब हुआ जब हिरण्यकशिपु नामित राक्षस अमरता प्राप्त करने के लिए विष्णु को रोकने की कोशिश कर रहा था।

राजा नरसिंह देव कहां के राजा थे?

राजा नरसिंह गॉड मुगल साम्राज्य के राजाओं में से एक थे। उन्होंने मुघल साम्राज्य के संकटकाल में अकबर के पुत्र सलीम के खिलाफ आवाज़ उठाई थे

CONCLUSION

दोस्तों हमने ऊपर दिए गए आर्टिकल में नरसिंह चालीसा के बारे में सब कुछ चर्चा की है। अगर आप इस नरसिंह चालिशा का पाठ श्रद्धा और आदर के साथ करेंगे तो आपको इससे बहुत लाभ मिलेगा।

यदि आप दैनिक Narsingh Chalisa PDF Download करके पढ़ सकते हैं तो आपका मानसिक शांति शरीर स्वास्थ्य आत्मविश्वास बढ़ेगा और आप हमेशा सफलता की राह पर आगे बढ़ेंगे।

कृपया कमेंट करें कि आपको यह लेख कैसा लगा और यदि आपके कोई प्रश्न हैं तो कृपया कमेंट करें। इसके अलावा यदि आप अन्य देवों की चालीसा पढ़ना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट पर जा सकते हैं धन्यवाद।


Share this article :

Leave a Comment