Jai Hanuman Chalisa PDF Download 2024 || हनुमान चालीसा PDF

Share this article :

नीचे दिए गए लिंक से Jai Hanuman Chalisa PDF डाउनलोड करें और आप Jai Hanuman Chalisa PDF की सभी सामग्री पूरी तरह से मुफ्त में पढ़ और डाउनलोड कर सकते हैं।

Jai Hanuman Chalisa PDF
Jai Hanuman Chalisa PDF

Jai Hanuman Chalisa : आस्था की यात्रा

Hanuman Chalisa हिंदू पौराणिक कथाओं में एक प्रमुख व्यक्ति श्री हनुमान को समर्पित एक भक्ति भजन है। यह हिंदू धर्म में सबसे लोकप्रिय प्रार्थनाओं में से एक है और भगवान हनुमान के भक्तों द्वारा इसका व्यापक रूप से पाठ किया जाता है। “चालीसा” शब्द का हिंदी में अर्थ “चालीस छंद” है।

Hanuman Chalisa को एक शक्तिशाली प्रार्थना माना जाता है। इसका पाठ अक्सर भक्तों द्वारा भगवान हनुमान से आशीर्वाद लेने, बाधाओं को दूर करने, साहस, शक्ति और आध्यात्मिक उत्थान प्राप्त करने के लिए किया जाता है। प्रार्थना हनुमान के प्रति गहरी भक्ति, श्रद्धा और कृतज्ञता व्यक्त करती है।

Jai Hanuman Chalisa पाठ दुनिया भर में लाखों लोगों द्वारा किया जाता है, विशेषकर मंगलवार और शनिवार को, जो हनुमान पूजा के लिए शुभ माने जाते हैं।

धार्मिक समारोहों, उत्सवों और हनुमान मंदिरों में भी इसका जाप किया जाता है। कई लोगों का मानना है कि हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने से मानसिक शांति, बुराई से सुरक्षा और मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

आप चाहें तो Jai Hanuman Chalisa PDF के सभी पाठों की पेज डाउनलोड करके पढ़ सकते हैं।

Jai Hanuman Chalisa PDF : Click Here

Also Read : Hanuman Chalisa Pdf Tamil

Jai Hanuman Chalisa PDF
Jai Hanuman Chalisa PDF

दोहा

श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि ।

बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन कुमार

बल बुधि विद्या देहु मोहि, हरहु कलेश विकार

चौपाई

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर

जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥1॥

राम दूत अतुलित बल धामा

अंजनि पुत्र पवनसुत नामा॥2||

महाबीर बिक्रम बजरंगी

कुमति निवार सुमति के संगी॥3॥

कंचन बरन बिराज सुबेसा

कानन कुंडल कुँचित केसा॥4॥

हाथ बज्र अरु ध्वजा बिराजे

काँधे मूँज जनेऊ साजे॥5॥

शंकर सुवन केसरी नंदन

तेज प्रताप महा जगवंदन॥6॥

विद्यावान गुनी अति चातुर

राम काज करिबे को आतुर॥7॥

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया

राम लखन सीता मनबसिया॥8॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहि दिखावा

विकट रूप धरि लंक जरावा॥9॥

भीम रूप धरि असुर सँहारे

रामचंद्र के काज सवाँरे॥10॥

लाय सजीवन लखन जियाए

श्री रघुबीर हरषि उर लाए॥11॥

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई

तुम मम प्रिय भरत-हि सम भाई॥12॥

सहस बदन तुम्हरो जस गावै

अस कहि श्रीपति कंठ लगावै॥13॥

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा

नारद सारद सहित अहीसा॥14॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते

कवि कोविद कहि सके कहाँ ते॥15॥

तुम उपकार सुग्रीवहि कीन्हा

राम मिलाय राज पद दीन्हा॥16॥

तुम्हरो मंत्र बिभीषण माना

लंकेश्वर भये सब जग जाना॥17॥

जुग सहस्त्र जोजन पर भानू

लिल्यो ताहि मधुर फ़ल जानू॥18॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माही

जलधि लाँघि गए अचरज नाही॥19॥

दुर्गम काज जगत के जेते

सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥20॥

राम दुआरे तुम रखवारे

होत ना आज्ञा बिनु पैसारे॥21॥

सब सुख लहैं तुम्हारी सरना

तुम रक्षक काहु को डरना॥22॥

आपन तेज सम्हारो आपै

तीनों लोक हाँक तै कापै॥23॥

भूत पिशाच निकट नहि आवै

महावीर जब नाम सुनावै॥24॥

नासै रोग हरे सब पीरा

जपत निरंतर हनुमत बीरा॥25॥

संकट तै हनुमान छुडावै

मन क्रम वचन ध्यान जो लावै॥26॥

सब पर राम तपस्वी राजा

तिनके काज सकल तुम साजा॥27॥

और मनोरथ जो कोई लावै

सोई अमित जीवन फल पावै॥28॥

चारों जुग परताप तुम्हारा

है परसिद्ध जगत उजियारा॥29॥

साधु संत के तुम रखवारे

असुर निकंदन राम दुलारे॥30॥

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता

अस बर दीन जानकी माता॥31॥

राम रसायन तुम्हरे पासा

सदा रहो रघुपति के दासा॥32॥

तुम्हरे भजन राम को पावै

जनम जनम के दुख बिसरावै॥33॥

अंतकाल रघुवरपुर जाई

जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई॥34॥

और देवता चित्त ना धरई

हनुमत सेई सर्व सुख करई॥35॥

संकट कटै मिटै सब पीरा

जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥36॥

जै जै जै हनुमान गुसाईँ

कृपा करहु गुरु देव की नाई॥37॥

जो सत बार पाठ कर कोई

छूटहि बंदि महा सुख होई॥38॥

जो यह पढ़े हनुमान चालीसा

होय सिद्ध साखी गौरीसा॥39॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा

कीजै नाथ हृदय मह डेरा॥40॥

दोहा

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।

राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप॥

Jai Hanuman Chalisa PDF के लाभ – Benefits of Jai Hanuman Chalisa PDF

Hanuman Chalisa तुलसी दास की अद्भुत रचना है। हर हिंदू घर में मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा पढ़ने का रिवाज है। ऐसा कहा जाता है कि जिस घर में हनुमान चालीसा का पाठ होता है उस घर में हनुमान और बजरंगबली की कृपा बनी रहती है।

आमतौर पर मंगलवार को घर-घर में हनुमानजी की पूजा की जाती है, कई लोग मंगलवार और शनिवार को भी हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि अगर आप रोजाना खासकर रात के समय हनुमान चालीसा का पाठ कर सकें तो आपको अभूतपूर्व परिणाम मिल सकते हैं।

Jai Hanuman Chalisa के जाप में ऐसी शक्ति है कि यह हमारे आसपास की नकारात्मक ऊर्जा को दूर कर सकारात्मक ऊर्जा से भरने में मदद करता है।हनुमान चालीसा का पाठ करने से सकारात्मक ऊर्जा बहुत तेजी से बढ़ती है, इसका पाठ करने से कई फायदे होते हैं, न केवल मंगलवार के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करना अच्छा होता है बल्कि रोजाना Hanuman Chalisa का पाठ करना बहुत अच्छा होता है।

शुद्ध वस्त्र पहनकर Hanuman Chalisa का पाठ करने से सभी संकट दूर हो जाएंगे यह एक सिद्ध तथ्य है लेकिन इसके लिए जब तक विश्वास पर विश्वास नहीं होगा तब तक ऐसा नहीं होगा कई लोग हनुमान चालीसा का पाठ दिन में करते हैं, शास्त्रों के अनुसार दिन की अपेक्षा रात में इसका पाठ करना अधिक लाभकारी होता है।

Jai Hanuman Chalisa PDF पढ़ने के नियम – Rules of reading Jai Hanuman Chalisa PDF

Hanuman Chalisa का पाठ करने का समय शाम 7 से 8 बजे है। पढ़ते समय अर्थ समझना चाहिए, कविता को धीरे-धीरे और लयबद्ध ढंग से पढ़ना चाहिए। इस संसार में सभी बुरे और पाप कर्मों को दूर करने के लिए हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। हनुमान चालीसा का पाठ छोटे से लेकर बूढ़े तक अलग-अलग उम्र के लोग कर सकते हैं।

कई लोग सुनते हैं कि महिलाएं हनुमान चालीसा का पाठ नहीं कर सकतीं जो कि पूरी तरह से झूठ है, हनुमान चालीसा में लिखा है कि जो हनुमान चालीसा का पाठ करता है वह श्री गौरी का प्रिय हो जाता है, प्रत्येक हनुमान चालीसा का पाठ स्त्री हो या पुरुष, बच्चे हो या बूढ़े कोई भी कर सकता है।

अब जानिए Hanuman Chalisa का पाठ करने के कुछ अच्छे पहलू जिससे आपको और आपके परिवार को लाभ होगा।रात्रि के समय हनुमान चालीसा का पाठ करने से आर्थिक परेशानियां, अभाव और चिंताएं दूर हो जाती हैं, हनुमान चालीसा का पाठ करने से वास्तु दोष दूर होता है और पारिवारिक सुख-शांति बनी रहती है।

जब भी आप किसी संकट में हों तो हनुमान जी का स्मरण करने से सभी बाधाओं से मुक्ति मिलती है। कभी-कभी यदि आप पर शनि का प्रभाव हो तो कुछ भी अच्छा नहीं होता,यदि शनि का प्रभाव किसी पर पड़ जाए तो संसार में उसका कुछ भी भला नहीं हो सकता।

Jai Hanuman Chalisa PDF पढ़ने के गलत नियम – Wrong rules of reading Jai Hanuman Chalisa PDF

Jai Hanuman Chalisa PDF
Jai Hanuman Chalisa PDF

कई लोग लंबे समय से Hanuman Chalisa का पाठ कर रहे हैं लेकिन उन्हें अपेक्षित परिणाम नहीं मिल रहा है,कई लोग कई वर्षों से हनुमान चालीसा का पाठ कर रहे हैं लेकिन उन्हें कोई वांछित परिणाम नहीं मिला। हनुमानजी के प्रति आपकी भक्ति भी कम नहीं है लेकिन आप सोचते हैं कि आपकी गलती कहां है?

क्या आपके हनुमान चालीसा का पाठ करते समय कुछ गलत तो नहीं हो रहा है? जवाब में कहा जा सकता है कि हां हो सकता है कि आप हनुमान चालीसा का पाठ करते समय कुछ गलत कर रहे हों। आइए एक नजर डालते हैं उन छोटी-छोटी गलतियों पर

  • अशुद्ध वस्त्र पहनकर हनुमान चालीसा का पाठ नहीं किया जा सकता
  • बिना स्नान किए हनुमान चालीसा का पाठ नहीं किया जा सकता
  • लाल रंग के अलावा किसी अन्य आसन पर न पढ़ें तो बेहतर है
  • हनुमान चालीसा का पाठ जल्दी नहीं किया जा सकता और उच्चारण संबंधी गलतियां भी नहीं की जा सकतीं
  • हनुमान चालीसा का अर्थ और महत्व समझकर ही इसका जाप करें
  • हनुमान चालीसा पढ़ने का उद्देश्य किसी को नुकसान पहुंचाना नहीं है अन्यथा तुम्हें भयंकर परिणाम भुगतने पड़ेंगे
  • हनुमान चालीसा का पाठ करने से पहले थोड़ी देर राम नाम का जाप करें
  • यदि आप खराब मानसिकता वाले व्यक्ति हैं, दूसरों को नुकसान पहुंचाना चाहते हैं या नुकसान पहुंचाने की सोचते हैं तो हनुमान चालीसा का पाठ करने से कोई लाभ नहीं होगा।
  • आप तुलसी दास की जगह अपना नाम लें

याद रखें इस कलियुग के सबसे जागृत देवता हनुमानजी ही हैं। और उनकी कृपा पाने का मार्ग भी उन्हीं की तरह सरल है। यदि आप सरल मन से थोड़ी श्रद्धा से उन्हें पुकारेंगे तो आपको उनकी कृपा प्राप्त होगी।

और उनकी पूजा करने का सबसे आसान तरीका है हनुमान चालीसा का सही तरीके से पाठ करना। आशा है कि हनुमान चालीसा का पाठ करते समय आप जो गलतियाँ कर रहे थे, वे सिर्फ किरणें हैं, आपको जल्द ही अपना वांछित परिणाम मिलेगा।

जय श्री राम || जय हनुमान चालीसा

HD Quality Jai Hanuman Chalisa PDF

Download In One Click Jai Hanuman Chalisa PDF


Share this article :

Leave a Comment